Loading... Please wait...

News Events

महान्‌ कथाकलार विजयदान देथा द्वारा रचित कहानी पर आधारित व सुप्रसिद्घ अभिनेता व निर्देशक अमोल पालेकर के निर्देशन में बनी फिल्म पहेली के ऑस्कर में नामित होने पर रेमाधव पब्लिकेशन द्वारा दिल्ली मण्डी हाउस स्थित श्रीराम सेंटर प्रेक्षा ग्रह में अभिनन्दन समारोह आयोजित किया गया कार्यक्रम में विजयदान देथा की लेखनी पर आधारित कथा समग्र पुस्तक का विमोचन भी किया गया इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सांसद राजनाथ सिंह, अमोल पालेकर पटकथाकार श्रीमती सन्ध्या गोखले व कैलाशदान देथा उपस्थित थे।



इस मौके पर मुख्य अतिथि राजनाथ सिंह ने कहा किसी भी देश व राष्ट्र के निर्माण में उसकी अपनी लोकभाषा व कथाओं की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सभी देश अपनी भाषा से बने हैं। किसी देश ने अपनी भाषा नहीं छोड़ी। लेकिन हमारा देश अपनी मातृभाषा छोड़ रहा है। अंग्रेजी भाषा ने भारतवर्ष का बहुत नुकसान किया है। लेकिन भारतीय फिल्मों ने भारत की वास्तविक पहचान को वापिस लाने का काम किया है। वर्तमान में पुरानी फिल्म व गाने रिमिक्स होकर वापिस आ रहे हैं। उन्होंने विजयदान देथा को महान साहित्यकार बताते हुए राजस्थान की लोकभाषा का प्रणयता बताया। राजनाथ सिंह ने कहा कि ऑस्कर का गठन हुए 81 वर्षों से भी अधिक समय बीत चुका है। लेकिन भारत को अभी तक ऑस्कर नहीं मिला। पहेली फिल्म का नाम ऑस्कर के लिए नामित हुआ है। इसके लिए वह इसकी पूरी टीम को बधाई और शुभकामना देते हैं।

प्रसिद्ध कलाकार व पहेली के निर्देशक अमोल पालेकर ने कहा कि भूमण्डलीय करण के दौर में हर क्षेत्र अपनी वास्तविक पहचान धीरे-धीरे पीछे छोड़ रहा है। और पश्चिमी प्रचलन को अपना रहा है। लोक ताकत सबसे बड़ी ताकत होती है। किसी भी लेखक के लेखन का समग्र प्रकाशन बड़ी बात होती है। लेकिन रेमाधव प्रकाशन ने विजयदान देथा की कथाओं को प्रकाशित कर बड़ा काम किया है।



विजयदान देथा जी का स्वास्थ्य ठीक न होने के कारण उनके पुत्र कैलाशदान देथा ने समान प्राप्त किया। कार्यक्रम का निर्देशन रेमाधव पब्लिकेशन के चेयरमैन अतुल गर्ग ने किया। कार्यक्रम पूर्व मेयर दिनेश चन्द्र गर्ग, मधुर मित्तल, तेलूराम काबोज, बलदेवराज शर्मा, विधायक सुनील शर्मा, अशोक, मोंगा, प्रसिद्ध कवि कृण मित्र, वरिष्ठ पत्रकार सलामत मियाँ, दिवाकर सिंघल, संजय कुशवाहा, संजीव शर्मा, पप्पू पहलवान समेत सैकड़ों लोग मौजूद थे।