Loading... Please wait...

Premchand

प्रेमचन्द

जन्म : 31 जुलाई 1880। बनारस के निकट लमही गाँव में। देहान्त : 1936। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद घरेलू परेशानियों का सामना करना पड़ा। सात साल की उम्र में माँ और सोलह साल की उम्र में पिता का देहान्त। पन्द्रह साल की उम्र में विवाह। 1919 में स्नातक की पढ़ाई पूरी की। नवाबराय के नाम से उर्दू में लेखन की शुरूआत। बाद में हिन्दी में भी लिखने लगे। 1910 में पहला कहानी-संग्रह ‘सोजे वतन' प्रकाशित, जिसे तत्कालीन ब्रिटिश सरकार ने जब्त कर लिया। इस घटना के बाद प्रेमचन्द के नाम से लिखने लगे। महात्मा गाँधी द्वारा चलाये गये असहयोग आन्दोलन के समर्थन में सरकारी नौकरी छोड़ दी। साहित्य के साथ-साथ पत्रकारिता में भी सक्रिय। कृतियां : गोदान, गबन, रंगभूमि, कर्मभूमि, सेवासदन, निर्मला, प्रेमाश्रम आदि प्रमुख उपन्यास। लगभग तीन सौ कहानियां। विपुल वैचारिक लेखन।