Loading... Please wait...

Ramkumar

रामकुमार

प्रख्यात चित्रकार और लेखक। जन्म 1924 में शिमला में। सेण्ट स्टीफेन्स कालेज, दिल्ली से अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर की शिक्षा। इसी दौरान प्रख्यात चित्रकार शैलोज मुखर्जी (शारदा उकील स्कूल ऑफ आर्ट) से चित्रकला की शिक्षा ली। इसी सिलसिले में 1949 में पेरिस गये और फर्नाण्डीज लेजर से अधीन रहकर 1952 तक अध्ययन किया। 1953 में भारत के बटवारे के यथार्थ पर आधारित उपन्यास ‘घर बने घर टूटे' प्रकाशित। देर सबेर (उपन्यास), हुस्ना बीबी तथा अन्य कहानियां, एक चेहरा, समुद्र, एक लम्बा रास्ता, मेरी प्रिय कहानियां, दीमक तथा अन्य कहानियां, झींगुरों का स्वर आदि प्रमुख कथा-कृतियां। कला-सम्बन्धी एक पुस्तक ‘यूरोप के स्केचं भी प्रकाशित। 1972 में पदमश्री सम्मान और 1985 में प्रतिष्ठत कालिदास सम्मान समेत अनेक सम्मान प्राप्त।