Loading... Please wait...

Satyajit Ray

सत्यजित रे

जन्म : सन् 1921 (कोलकाता), मृत्यु : सन् 1992 (कोलकाता)। शिक्षा : कोलकाता तथा शान्तिनिकेतन में। बीसवीं सदी के श्रेष्ठतम रचनाकारों में एक, जिन्होंने कला, संगीत, लेखन, फिल्म निर्देशन आदि सभी क्षेत्रों में काम किया। अपनी फिल्म ‘पथेर पांचाली' फिल्म-निर्देशन के क्षेत्र में आये। सन् 1956 के केन्स फिल्म समारोह में वे इस फिल्म को विश्व-स्तर पर सराहना मिली। इसके बाद उन्होंने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। वृत्तचित्रों के अलावा उन्होंने 36से ज्यादा फिल्मों का निर्देशन किया और लगभग सभी फिल्मों ने देश-विदेश में कीर्तिमान स्थापित किया। उनकी कुछ अन्य चर्चित फिल्में हैं। सत्यजित रे ने बच्चों से लेकर बड़ों तक के लिए समान रूप से लिखा है। उनकी 70 से भी ज्यादा पुस्तकें बांग्ला और अंग्रेजी में प्रकाशित है। ‘फेलूदा एण्ड कम्पनी' तथा ‘प्रोफेसर शंकु' की सीरीज़ की पुस्तकों के अलावा फिल्मों के सैद्धान्तिक पक्ष पर लिखी उनकी पुस्तकें भी चर्चित हुई हैं। 
पुरस्कार-सम्मान : मैगसेसे पुरस्कार (1967), दादासाहब फाल्के पुरस्कार (1985), केन्स फिल्म फेस्टिवलल, वेनिस फिल्म फेस्टिवल और मास्को फिल्म फेस्टिवल में विशेष रूप से सम्मानित (1982), सोवियत लैण्ड नेहरू अवार्ड (1985), ऑस्कर सम्मान (1992), विश्वभारती विश्वविद्यालय से ‘देशिकोत्तम' (1978), भारत सरकार द्वारा सम्मानित ‘भारतरत्न' (1992) के अलावा भी अन्य ढेरों सम्मान-पुरस्कार।