Loading... Please wait...

Traun Vijay

तरुण विजय

भारतीय राष्ट्रवाद और सामयिक राजनीति के लब्धप्रतिष्ठ लेखक-पत्रकार। पा¡च सालों तक दादरा नगर हवेली के जनजातीय क्षेत्र में ‘वनवासी कल्याण आश्रम' के पूर्णकालिक कार्यकर्ता रहे। केन्द्रीय गृहमन्त्री की सलाहकार समिति के सदस्य नामांकित (1982)। भारत के ‘प्रथम सिन्धु अभियान' (14500 फीट तक सिन्धु के भारत में प्रवेश से लेकर निर्गम तक की यात्रा) का नेतृत्व। चीन के सिचुआन विश्वविद्यालय से भारत चीन संबंधों पर फैलोशिप प्राप्त। चीन, पूर्वी एशिया, यूरोप, अमेरिका व अफ्रीका के 32 देशों का भ्रमण और यात्रा वृत्तान्तों का लेखन। माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता राष्ट्रीय विश्वविद्यालय की सर्वोच्च निकाय महापरिषद् के सदस्य, भारत-चीन एवं भारत-जापान विशिष्ट जन समिति (विदेश मन्त्रालय) के चार वर्ष तक सदस्य। देश के महत्त्वपूर्ण पत्रों में नियमित स्तम्भ लेखन। प्राय: दो दशक तक ‘पाञ्चजन्यं का संपादन। पुस्तकें : कैलास मानसरोवर यात्रा—साक्षात् शिव से संवाद, भारत का मन, युद्ध अभी बाकी है, समय का सच, सिन्धु गाथा, पंख लगी पगडण्डियां, आकाश हमारे सीने में, सैफरन सर्ज। सम्मान : प्रज्ञा सम्मान (दिल्ली प्रकाशक संघ), ज्ञानी ज्ञान सिंह पुरस्कार (भाषा विभाग, पंजाब सरकार), पण्डित दीनदयाल उपाध्याय साहित्य सम्मान (राजस्थान), रोटरी गौरव सम्मान 2001, विश्व हिन्दी रत्न सम्मान 2001। राजमाता विजया राजे सिंधिया पत्रकारिता सम्मान (2007)। सम्प्रति :  डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी रिसर्च फाउण्डेशन के निदेशक।