Loading... Please wait...

Bhart Mein Vivah Ka Itihas

RRP:
Rs 150.00
Your Price:
Rs 113.00 (You save Rs 37.00)
ISBN:
81-89914-63-4
Author:
Cover:
Quantity:
Bookmark and Share


Preface

भारत में विवाह का इतिहास

भारत में विवाह का इतिहास केवल प्राचीन तथ्य ही नहीं है, वह बहु विचित्रताओं से भी भरा हुआ है। प्राचीन काल से ही नाना जातियों के लोग भारत आ-आकर यहा¡ के  जनसमूह के साथ घुलते-मिलते रहे हैं। आज भारत में नाना प्रकार की जातियां हैं और उनकी विवाह-प्रथाओं में भी विभिन्नता पायी जाती है। इन प्रथाओं के सम्बन्ध में ही तथ्यात्मक विवरण इस पुस्तक में संग्रहीत हैं।

वेद, रामायण, महाभारत, कौटिल्य का अर्थशास्त्र आदि ग्रन्थों तथा हिन्दू-बौद्ध धर्मशास्त्रों और कालखण्डों का मन्थन करते हुए प्रसिद्ध नृतत्वशास्त्री अतुल सूर ने भारतीय विवाहप्रथा और यौनजीवन के इतिहास की रचना की है। हिन्दू हो या मुसलिम, बौद्ध हो या ईसाई, ब्राह्म हो या आदिवासी—हर समप्रदाय के वैवाहिक आचरण और रीति-रिवाजों तथा उनके सकारात्मक और नकारात्मक पक्षों पर उन्होंने अपनी इस लघु पुस्तक में सारगर्भित विचार किया है।

यह पुस्तक गागर में सागर भरने का एक बेहतरीन उदाहरण है। किसी गंभीर विषय को इस तरह संक्षेप में रोचकता से प्रस्तुत करने में डा. अतुल सूर लाजवाब रहे हैं। पाठकों के लिए एक महत्वपूर्ण पुस्तक।


Find Similar Books by Category


Related Books

You Recently Viewed...