Loading... Please wait...

Bhuthai Ghari

RRP:
Rs 130.00
Your Price:
Rs 98.00 (You save Rs 32.00)
ISBN:
81-89850-96-2
Cover:
Quantity:
Bookmark and Share


Preface

भुतही घड़ी 

दादा जी की पुरानी घड़ी खो जाने के बाद उनको एक नयी घड़ी दी जाती है। लेकिन नयी घड़ी के आते ही उन्हें विचित्र आवाजें सुनाई देने लगती हैं और उनसे ऐसी-ऐसी घटनाओं से साक्षात्कार होता है, जिन पर उन्हें सहज विश्वास नहीं होता। वे समझ नहीं पाते कि यह भूतों चक्कर है अथवा कोई वैज्ञानिक तकनीकी चमत्कार। कोई स्पष्ट कारण नहीं खोज पाने की स्थिति में सभी ने मान लिया है कि नयी घड़ी भुतही है। पर लाटू और उसके भाई-बहनों को 'भुतही घड़ी' में रहस्य को जाने बिना चेक नहीं मिल पाता और वे इसके रहस्य-संधान में जुट जाते हैं...!

बांग्ला के प्रतिष्ठित साहित्यकार शीर्षेन्दु मुखोपाध्याय द्वारा चित्र किशोर साहित्य की एक प्रतिनिधि कृति!


Find Similar Books by Category


You Recently Viewed...