Loading... Please wait...

Gaddar Koun

RRP:
Rs 330.00
Your Price:
Rs 248.00 (You save Rs 82.00)
ISBN:
978-81-89962-08-1
Author:
Cover:
Quantity:
Bookmark and Share


Preface

गद्दार कौन

'नवाज़ शरीफ की कहानी उनकी ज़ुबानी' पुस्तक में नवाज़ शरीफ ने अपने जीवन और राजनीति के हवाले से इतिहास के बहुत से छुपे हुए रहस्यों से परदा उठाया है। सुहैल बड़ाइच ने इस पुस्तक में मियां  नवाज़ शरीफ की विभिन्न मुद्दों पर बातचीत रिकार्ड की जिसमें बहुत से विवादास्पद मुद्दों और राजनीतिक प्रश्न भी शामिल हैं। इसके लिए उन्हें सऊदी अरब और इंग्लैण्ड की यात्रायें  भी करनी पड़ीं। इसके अतिरिक्त विभिन्न स्तरों पर देश के अन्दर होनेवाली राजनीतिक और सामाजिक घटनाओं पर उनकी सोच और विचारधारा के बारे में भी जानने का प्रयत्न किया। टेलिफोन पर बराबर उनसे संपर्क बनाए रखा।

तीन वर्षों की भेंटवार्ताओं और संपर्कों  के पश्चात् इस पुस्तक का प्रकाशन संभव हो सका। 'नवाज़ शरीफ की कहानी उनकी ज़ुबानी' में नवाज़ शरीफ के बचपन, पारिवारिक हालात, उनके राजनीतिक जीवन के उतार-चढ़ाव, उनके सियासी विचार, सेना के साथ उनके संपर्क, भारत के साथ दोस्ती का आरंभ, कारगिल की घटनायें, जनरल मुशर्रफ से मतभेद, उनकी जेलयात्रा, सऊदी अरब के बादशाह अब्दुल्लाह की उनकी रिहाई में दिलचस्पी, जलावतनी और सऊदी अरब व लन्दन के हालात आदि शामिल हैं। यह सबकुछ उनकी अपनी ज़ुबान में है। बहुत से पहलुओं को उजागर करने के लिए नवाज़ शरीफ के अतिरिक्त उनके परिवारजनों से भी साक्षात्कार लिये गये। जैसे उनके छोटे भाई शहबाज़ शरीफ, उनकी बेगम कुलसुम नवाज़, उनके बड़े बेटे हुसैन नवाज़, छोटे बेटे हसन नवाज़ शरीफ, दामाद कैप्टन सफदर और सेना सचिव जावेद मलिक के साक्षात्कार भी इस पुस्तक का भाग हैं, जिनसे पाकिस्तान की राजनीति के इतिहास पर रोशनी पड़ती है और यह पुस्तक एक रोचक रूप में सामने आती है। सुहैल बड़ाइच के अनुसार - ये साक्षात्कार पाकिस्तान के इतिहास के अँधेरे गोशों पर रोशनी डालते हैं।

बहुत से रहस्य इस किताब के अध्ययन से सामने आते हैं। पाकिस्तान की राजनीति और सामाजिक जिन्दगी को समझने के लिए इस पुस्तक का अध्ययन ज़रूरी है।


Find Similar Books by Category


You Recently Viewed...