Loading... Please wait...

Scoop

RRP:
Rs 300.00
Your Price:
Rs 225.00 (You save Rs 75.00)
ISBN:
81-89914-93-6
Author:
Cover:
Quantity:
Bookmark and Share


Preface

स्कूप

कुलदीप नैयर इस देश के विख्यात वरिष्ठतम पत्रकार और मानवाधिकार के चर्चित पक्षधर हैं। श्री नैयर जैसे पत्रकारों ने, जो सच्चाई का पता लगाने के लिए किसी भी खतरे का सामना करने को तैयार रहते हैं, के कारण ही जनतन्त्र की मशाल विपरीत परिस्थितियों में भी निरद्वन्द्व रूप से जलती रही है। आजादी के वक्त और उसके बाद से लेकर अब तक देश में बन रही नीतियों की व्याख्या कर आम जनता तक पहुँचाने और सत्ता के पर्दे की पीछे छुपी घटनाओं की छानबीन कर लोगों के सामने रखने में श्री नैयर हमेशा आगे रहे हैं। 'स्कूप' में उन्होंने यही काम किया है।

'स्कूप' यानी सनसनीखेज खबर, ऐसा समाचार जो महज सूचना नहीं है, जो पत्रकारिता को महज एक व्यवसाय में तब्दील होने से बचाता है, जो पत्रकारिता को पेशेवर रुख और गरिमा को बिना क्षति पहुंचाए एक लोकतान्त्रिक देश की असली भूमिका व मूल उद्देश्य को अमली जामा पहनाता है। अत्यन्त सहज, सरल व बोधगम्य शैली में लिखी गई यह किताब आजादी के बाद से लेकर अब तक की भारतीय राजनीति में घटित महत्त्वपूर्ण घटनाओं पर एक बेबाक टिप्पणी है। साथ ही, इसे तमाम राजनीतिक उथल-पुथल से भरी घटनाओं की खोजपरक तसवीर पेश करती सनसनीखेज खबरों से साक्षात्कार कराने वाले एक संग्रहणीय संकलन के रूप में भी देखा जा सकता है। एक ऐसा क्वदस्तावेजं जिसमें देश के राजनीतिक विकास-क्रम का सिलसिलेवार लेखा-जोखा है, जो तमाम महत्त्वपूर्ण सरकारी व गैर-सरकारी पदों पर रहते हुए एक निष्पक्ष पत्रकार के अनुभवों से परिचित कराता है। राजनीतिक सूझ-बूझ से लैस, गहरे सामाजिक सरोकारों के साथ जीने वाले एक पत्रकार का लेखन है यह।

सच पूछें तो इस किस्म की पत्रकारिता व राजनीतिक टिप्पणियों से भरपूर लेखों के जरिये कुलदीप नैयर ने भारतीय पत्रकारिता जगत में कई मापदण्ड स्थपित किये हैं। इस दौरान सचबयानी का जो जोखिम उन्होंने उठाया उसके लिए उन्हें इमरजेन्सी के समय कई महीने जेल में गुजारने पड़े थे। एक तरह से पत्रकारिता के पेशे को अपने नज़रिये से देखते और महसूस करते नज़र आते हैं कुलदीप नैयर प्रस्तुत पुस्तक 'स्कूप' में।

यह पुस्तक न सिर्फ पाठकों के लिए रोचकता की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण है बल्कि राजनीति के विशेषज्ञों के लिए भी उपयोगी साबित होगा।


Find Similar Books by Category


You Recently Viewed...